AMC NEWS : ताजा ख़बरें सबसे पहले

देश दुनिया व अपने शहर की खबर सबसे पहले देखें इस वेबसाइट पर

Welcome to AMC NEWS : पाएं ताजा ख़बरें सबसे पहले और यदि आप चाहते हैं पल पल की अपडेट पाना तो Download करें AMC NEWS ANDROID APP और खबरों के साथ बने रहें| This is the Only Official Website of AMC NEWS     “Always Type www.amcnews.in . For advertising in this website contact us.”

कल बिहार बंद, समर्थन में जुटे सियासी दल छात्र संगठनों के बाद महागठबंधन का रेलवे परीक्षार्थियों को समर्थन; RJD ने कहा- लाठी खाने भी तैयार हैं

जनवरी 27, 2022

कल बिहार बंद, समर्थन में जुटे सियासी दल छात्र संगठनों के बाद महागठबंधन का रेलवे परीक्षार्थियों को समर्थन; RJD ने कहा- लाठी खाने भी तैयार हैं

परीक्षार्थियों के समर्थन में छात्र संगठनों ने 28 जनवरी को बिहार बंद का आह्वान किया है। इस आंदोलन को महागठबंधन की तमाम पार्टियों ने अपना शक्तिशाली समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। बंद में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने पार्टी कार्यालय में RJD सहित कांग्रेस, माले, CPI और CPM पार्टियों की बैठक की गई।

सरकार लाठी चलाएगी तो हम सड़क पर तैयार रहेंगेः राजद

बैठक में तय हुआ कि महागठबंधन को एकजुट होकर रेलवे अभ्यर्थियों का साथ देना है। इस बारे में महागठबंधन में शामिल पार्टियों के प्रतिनिधियों ने अपनी-अपनी बात रखी। RJD के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा कि चुनाव से ज्यादा महत्वपूर्ण छात्रों-युवाओं का भविष्य है। सरकार रेल की बोगियों को तो देश की संपत्ति बताती है पर युवाओं को नहीं। हम बिहार बंद का पूर्ण समर्थन करते हैं। अगर इस दौरान कोई दुर्घटना होगी तो इसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। पार्टी के नेता सड़क पर उतरेंगे। अगर सरकार लाठी चलवाती है तो हम लाठी खाने को भी तैयार रहेंगे।

आंदोलन से निकले नेता पीएम और सीएम तक बने- कांग्रेस

कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा छात्रों का आंदोलन किसी राजनीतिक दल का आंदोलन नहीं है। अब भाजपा राजनीतिक दलों को बदनाम करने में लगी है। रेलवे युवाओं को डरा रहा है कि आंदोलन करने वाले युवा आगे से रेलवे की नौकरी नहीं कर पाएंगे। पहले की सरकारों ने ऐसा ही नियम-कानून बनाया होता तो लालू प्रसाद, मुलायम सिंह यादव जैसे नेता CM नहीं बन पाते। जेपी आंदोलन के नेता चंद्रशेखर देश के प्रधानमंत्री बने। छात्र राजनीति से निकलकर मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार छात्रों के आंदोलन को कुचल रहे हैं यह आश्चर्यजनक है।

4 लाख 24 हजार युवा सेकेंड एग्जाम से वंचित हो गए- माले

माले के राज्य सचिव कुणाल ने बताया कि रेलवे भर्ती बोर्ड ने किस-किस तरह की गड़बड़ियां की और छात्र क्यों भड़के हुए हैं। रिजल्ट में वास्तविक संख्या 7 लाख होनी चाहिए थी, लेकिन 2 लाख 76 हजार ही रह गई। 4 लाख 24 हजार परीक्षार्थी सेकेंड एग्जाम से वंचित हो रहे हैं। केन्द्र सरकार ने केवल वादा किया लेकिन रोजगार नहीं दिया। उसी तरह बिहार की सरकार ने रोजगार नहीं दिया। सरकार रोजगार के बजाय युवाओं का मजाक उड़ा रही है। इसलिए विस्फोट युवाओं के बीच हुआ है और वे सड़कों पर उतर रहे हैं।

निजीकरण करने में लगी है सरकार, इसका विरोध होगा- सीपीएम

CPI के राज्य सचिव राम नरेश पांडेय ने कहा कि रेलवे भर्ती बोर्ड की मनमानी से छात्र परेशान हैं। अब पुलिस की ज्यादती पर लगाम जरूरी है। शांति पूर्ण तरीके से बिहार बंद हो। सीपीएम के अवधेश कुमार ने कहा कि बेरोजगारी के सवाल पर छात्रों का आक्रोश जायज है। केन्द्र सरकार सार्वजनिक संपत्तियां बेचने में लगी है। रेलवे, LIC सब के साथ यही कर रही है। सरकार निजीकरण कर रही है। दो करोड़ युवाओं को नौकरी देने का वादा छलावा साबित हुआ। नीतीश सरकार ने 19 लाख युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी, वह भी पूरी नहीं हुई। इसलिए युवाओं का गुस्सा जायज है। बहुत कठिन हालात में बिहार के युवा तैयारी करते हैं।

इधर, छात्र जनशक्ति परिषद बिहार के अध्यक्ष प्रशांत प्रताप यादव ने बताया कि रेलवे परीक्षार्थियों के आंदोलन को उनका पूरा समर्थन मिलेगा। प्रशांत ने छात्र जनशक्ति परिषद से अपील करते हुए अपने-अपने क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा संख्या कार्यकर्ताओं से जुटने का आह्वान किया है। उन्होंने बताया कि इस बंद में तेज प्रताप यादव भी शामिल होंगे।

कल बिहार बंद, समर्थन में जुटे सियासी दल छात्र संगठनों के बाद महागठबंधन का रेलवे परीक्षार्थियों को समर्थन; RJD ने कहा- लाठी खाने भी तैयार हैं कल बिहार बंद, समर्थन में जुटे सियासी दल छात्र संगठनों के बाद महागठबंधन का रेलवे परीक्षार्थियों को समर्थन; RJD ने कहा- लाठी खाने भी तैयार हैं Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

FIR के बाद खान सर फरार कोचिंग बंद और मोबाइल भी किया स्विच ऑफ RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप

जनवरी 27, 2022

FIR के बाद खान सर फरार कोचिंग बंद और मोबाइल भी किया स्विच ऑफ RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप

FIR दर्ज होने के बाद खान सर अपनी पटना वाली कोचिंग को बंद कर के फरार हैं। बुधवार यानी 26 जनवरी को बिहार के कई जिलों में छात्रों ने स्टेशनों पर उग्र प्रदर्शन किया। कई जगहों पर ट्रेन को आग के हवाले कर दिया गया। इसके बाद खान सर समेत 6 कोचिंग संस्थान संचालक शिक्षक पर पत्रकार नगर थाना में केस दर्ज किया गया। इसके बाद आज सुबह से ही खान सर गायब हैं।

राजधानी के पत्रकार नगर थाने में खान सर पर FIR दर्ज की गई है। इसके बाद से वो गायब हैं।उन्होंने अपना फोन भी स्विच ऑफ कर लिया है। साथ ही किसी भी सोशल मीडिया पर खान सर के द्वारा ना कोई पोस्ट किया गया है और ना ही उन्होंने केस पर कोई प्रतिक्रिया दी है। साथ ही उनका क उनका कोचिंग संस्थान 'Khan GS Research Centre' भी बंद पड़ा है।

गिरफ्तार छात्रों से पूछताछ के बाद खान सर पर हुआ केस...

दरअसल, RRB-NTPC के हुए एग्जाम के रिजल्ट पर सवाल उठाते हुए छात्रों ने 24 जनवरी को पटना में राजेंद्र टर्मिनल पर सबसे पहले हंगामा शुरू किया था। उस दिन हंगामा करने वाले 4 छात्रों को पत्रकार थाना पुलिस ने पकड़ा था। पुलिस ने उन सभी से पूछताछ की। FIR में दावा किया गया है कि पकड़े गए छात्रों ने ही सभी के नाम लिए। इस कारण खान सर, एस के झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर को नामजद किया गया है।

 

FIR के बाद खान सर फरार कोचिंग बंद और मोबाइल भी किया स्विच ऑफ RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप FIR के बाद खान सर फरार कोचिंग बंद और मोबाइल भी किया स्विच ऑफ RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

परीक्षाओं पर रोक के बावजूद गया में फिर फूंकी गईं बोगियां, रेल मंत्री बोले- रेलवे आपकी संपत्ति, इसे सुरक्षित रखें

जनवरी 27, 2022

RRB-NTPC के रिजल्ट में धांधली के विरोध में यूपी-बिहार में छात्रों का प्रदर्शन बुधवार को भी जारी है। गया जंक्शन पर पुलिस के निकलने के बाद उपद्रवी फिर से आए और ट्रेन की तीन बोगियों में आग लगा दी। इसके पहले भी कुछ बोगियों को आग के हवाले किया गया था। इसके बाद हालात को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़े हैं। जहानाबाद, समस्तीपुर, रोहतास समेत कई इलाकों में छात्र रेलवे ट्रैक पर उतर गए और नारेबाजी करने लगे। प्रदर्शन कर रहे छात्रों की वजह से कई जगहों पर ट्रेन खड़ी हो गईं।

छात्रों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव दोपहर साढ़े तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि हमारे पास परीक्षा को लेकर कोई शिकायत नहीं आई। हमने जांच कमेटी बनाई है और वो इसकी जांच करेगी। कमेटी 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट सौंप देगी।

उन्होंने छात्रों से अपील की कि रेलवे आपकी ही संपत्ति है और इसकी सुरक्षा करिए। रेल मंत्री ने कहा कि कुछ लोग छात्रों के प्रदर्शन का गलत फायदा उठा रहे हैं। छात्रों को भ्रमित न किया जाए, ये मामला देश का है। छात्रों से अपील है कि आप अपना विषय हमारे सामने रखिए और संवेदनशीलता के साथ इसे देखेंगे।

जहानाबाद में छात्रों को खदेड़ते पुलिसकर्मी।
जहानाबाद में छात्रों को खदेड़ते पुलिसकर्मी।

पथराव कर रहे छात्रों को पुलिस ने खदेड़ा
जहानाबाद में पुलिस ने आंसू गैस और बल प्रयोग कर ट्रैक को खाली कराया। इससे पहले पुलिस और रेलवे के अधिकारी छात्रों को समझाने की कोशिश की, लेकिन जब छात्र पथराव करने लगे तो पुलिसवाले लाठियां भांजने लगे। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को खदेड़ दिया। फिलहाल जहानाबाद स्टेशन पर दर्जनों पुलिसकर्मी तैनात हो चुके हैं।

CPI (M) ने सोशल मीडिया पर लिखा कि, पार्टी घोटाले के खिलाफ आक्रोशित छात्रों पर आंसू गैस एवं लाठीचार्ज की क्रूरतापूर्ण कार्रवाई का पुरजोर विरोध करती है और छात्रों की मांगों का समर्थन करती है।

  • समझिए, रेलवे के परीक्षार्थी क्यों भड़के हुए हैं

करीब 1.26 करोड़ छात्रों ने परीक्षा के लिए किया था आवेदन
NTPC रिजल्ट को लेकर उत्तर प्रदेश और बिहार में अभ्यर्थियों के व्यापक विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने बड़ा फैसला किया है। रेल मंत्रालय ने NTPC और लेवल वन परीक्षा पर फिलहाल रोक लगा दी है। इसके अलावा रेल मिनिस्ट्री ने एक हाई पावर कमेटी का गठन कर दिया है।

  • गया जंक्शन पर उग्र छात्रों ने ट्रेन को फूंका:NTPC अभ्यर्थियों का प्रदर्शन जारी; पहले किया पथराव फिर कई ट्रेनों के शीशे फोड़े

-कुल पदों की संख्या- 35281
-आवेदन कर्ता की संख्या- 12588524
-1st फेज में स्टूडेंट्स की संख्या- करीब 23 लाख (28 दिसंबर 2020 से 13 जनवरी 2021तक)
-2nd फेज- 27 लाख (16 से 30 जनवरी 2021)
-3rd फेज- 28 लाख (31 जनवरी से 12 फरवरी)
-4th फेज- 15 लाख (15 फरवरी से 3 मार्च)
-5th फेज- 19 लाख (4 से 27 मार्च)
-6th फेज- 6 लाख ( 1 से 8 अप्रैल)
-7th फेज-2.78 लाख ( 23 जुलाई से 31 जुलाई)

यह कमेटी परीक्षा में पास और फेल हुए अभ्यर्थियों की शिकायत को सुनेगी और इसकी रिपोर्ट रेल मिनिस्ट्री को सौंपेगी। इसके बाद रेल मंत्रालय आगे का निर्णय लेगा। फिलहाल रेलवे की परीक्षा पर रेल मंत्रालय ने रोक लगा दी है। बता दें कि देशभर में करीब 1.26 करोड़ छात्रों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया था।

-35281 पद पर जॉब के लिए 12 लाख 63 हजार 885 छात्र एग्जाम में शामिल हुए थे।
-28 फरवरी 2019 को नोटिफिकेशन जारी हुआ था, 2021 में परीक्षा हुई थी।
-RRB पटना में 1039 पद हैं। शॉर्टलिस्ट 20780 होने थे और 11,429 हुए।
-RRB मुजफ्फरपुर में 329 पद हैं। शॉर्टलिस्ट 6580 होने थे और 3619 हुए।

  • पुलिस छावनी में तब्दील हुआ नवादा रेलवे स्टेशन:चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों की तैनाती, रेलवे को 3 करोड़ का नुकसान; 4 को भेजा गया जेल

बिहार में हालात काबू करने के लिए हाईलेवल मीटिंग
ADG निर्मल कुमार आजाद के अनुसार रेल पुलिस, RPF के साथ ही वहां जिला पुलिस की टीम मौजूद है। खुद गया के SSP भी मौजूद हैं। हालात को काबू करने में लगे हैं। रेलवे में लॉ एंड ऑर्डर की समस्या बन गई है। इस पर काबू पाने के लिए रेलवे के आला अधिकारियों से बात की जा रही है। साथ ही सभी रेल जिला पुलिस को अलर्ट पर रखा गया है। क्योंकि, छात्र कभी भी कहीं भी रेलवे ट्रैक पर पहुंच जा रहे हैं और हंगामा करने लग रहे हैं।

छात्रों ने गया जंक्शन पर खाली ट्रेन में आग लगा दी।
छात्रों ने गया जंक्शन पर खाली ट्रेन में आग लगा दी।

रेलवे ट्रैक पर ही पीएम का फूंका पुतला
जहानाबाद में लगातार 5 घंटे से छात्र रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन कर रहे है। रेलवे ट्रैक पर ही प्रधानमंत्री और रेल मंत्री का पुतला फूंका गया। उन्होंने सरकार विरोधी नारे भी लगाए। छात्रों का कहना है कि जब तक हमारी मांग पूरी नहीं होगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। जहानाबाद रेलवे स्टेशन के पास बुधवार की सुबह भारी संख्या में छात्रों ने गया-पटना रेलखंड पर ट्रेन का परिचालन बाधित कर दिया। सुबह से ही मेमू गाड़ी पैसेंजर को छात्रों ने रोककर सरकार विरोधी नारे लगाए। छात्र रेलवे पटरी पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं और ट्रैक ठप पड़ा है। रेल थाने की पुलिस छात्रों को समझाने बुझाने में लगा हुआ है लेकिन छात्र अपनी मांगों पूरी करने की मांग कर रहे हैं।

परीक्षाओं पर रोक के बावजूद गया में फिर फूंकी गईं बोगियां, रेल मंत्री बोले- रेलवे आपकी संपत्ति, इसे सुरक्षित रखें परीक्षाओं पर रोक के बावजूद गया में फिर फूंकी गईं बोगियां, रेल मंत्री बोले- रेलवे आपकी संपत्ति, इसे सुरक्षित रखें Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

रैक पर हंगामे के बाद खान सर पर FIR:RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप, पटना पुलिस ने 5 अन्य टीचरों और 16 स्टूडेंट्स को किया नामजद

जनवरी 27, 2022

रैक पर हंगामे के बाद खान सर पर FIR, RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप, पटना पुलिस ने 5 अन्य टीचरों और 16 स्टूडेंट्स को किया नामजद...

अपने अनोखे अंदाज से पढ़ाने को लेकर छात्रों के बीच चर्चित पटना वाले खान सर पर पुलिस ने कानूनी शिकंजा कस दिया है। उनके खिलाफ राजधानी के पत्रकार नगर थाना में नामजद केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने उनके साथ-साथ कुल 6 टीचरों और 16 छात्रों को इस केस में नामजद किया है।

इन पर आरोप है कि खान सर समेत सभी नामजद टीचरों और अन्य कोचिंग संचालकों ने ही रेलवे अभ्यर्थियों को हंगामा और प्रदर्शन के लिए उकसाया था। मनमाफिक रिजल्ट नहीं आने से खान सर समेत बाकी सभी टीचर ने एक षड्यंत्र रचा। इसमें सोशल मीडिया पर वायरल खान सर के वीडियो ने भी आग में घी डालने का काम किया। वीडियो को देख कर छात्र भड़क गए। इस कारण लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति खराब हो गई।

हंगामा शुरू करने वाले 4 युवक को पुलिस ने पकड़ा...

दरअसल, RRB-NTPC के हुए एग्जाम के रिजल्ट पर सवाल उठाते हुए छात्रों ने 24 जनवरी को पटना में राजेंद्र टर्मिनल पर सबसे पहले हंगामा शुरू किया था। उस दिन ट्रेनें रोकी थी। पुलिस पर पथराव किया था। इसके जवाब में पुलिस ने भी कार्रवाई की थी। बिगड़े हालात पर काबू पाने के लिए रेल पुलिस के साथ ही पटना पुलिस और जिला प्रशासन को भी काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। जब पुलिस ने कार्रवाई की थी, तब कुछ छात्रों को भागते हुए पत्रकार नगर थाना की पुलिस ने देखा था। उसी में 4 छात्रों को पकड़ा था। इसमें गिरिडीह के किशन कुमार, लखीसराय के रोहित कुमार, राजन कुमार और बिक्रम कुमार शामिल हैं।

पकड़े गए छात्रों ने लिया खान सर का नाम

पुलिस ने इन सभी से पूछताछ की। FIR में दावा किया गया है कि पकड़े गए छात्रों ने ही सभी के नाम लिए। इस कारण खान सर, एस के झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर को नामजद किया गया है। पकड़े गए छात्रों ने ही बहादुरपुर के शिव शक्ति नगर के रहने वाले नरेश, नागेश, विकास, खेसारी, मृत्युंजय, बालेश्वर, पंकज, विशाल, सूरज, भजनू, विकास उर्फ छोटू, मुकेश और पटेल छात्रावास में रहने वाले 3-4 अपने अन्य दोस्तों के बारे में बताया।

इन्हीं कारणों से सभी को नामजद और 300 से 400 के करीब अन्य अज्ञात छात्रों को FIR में आरोपी बनाया गया है। इसमें बाजार समिति में कोचिंग चलाने वाले अन्य अज्ञात संचालकों पर भी आरोप लगा है। थानेदार मनोरंजन भारती के बयान पर IPC की धारा 147/148/149/151/152/186/187/188/323/332/353/504/506 और 120B के तहत FIR नंबर 42/2022 दर्ज किया गया है। संभावना है कि केस दर्ज करने के बाद पटना पुलिस खान सर समेत सभी आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से गिरफ्तारी का वारंट लेकर गिरफ्तारी की कार्रवाई भी कर सकती है।

 

रैक पर हंगामे के बाद खान सर पर FIR:RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप, पटना पुलिस ने 5 अन्य टीचरों और 16 स्टूडेंट्स को किया नामजद रैक पर हंगामे के बाद खान सर पर FIR:RRB-NTPC अभ्यर्थियों को उकसाने का आरोप, पटना पुलिस ने 5 अन्य टीचरों और 16 स्टूडेंट्स को किया नामजद Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

बिहार में ट्रैक पर उपद्रव मामले में 8 को जेल:भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात छात्रों पर FIR; आगजनी करने वालों की तलाश तेज

जनवरी 27, 2022

बिहार में ट्रैक पर उपद्रव मामले में 8 को जेल:भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात छात्रों पर FIR; आगजनी करने वालों की तलाश तेज...

बिहार में RRB-NTPC के रिजल्ट को लेकर विरोध कर रहे छात्रों पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया है। दोनों जिलों को मिलाकर कुल आठ लोगों को अरेस्ट कर जेल भी भेज दिया गया है। वहीं, गया में ट्रेन की बागियों में आगजनी करने वालों की जांच में पुलिस जुट गई। वीडियो फुटेज और संदिग्धों से पूछताछ के आधार पर उपद्रव करने वालों की तलाश की जांच की जा रही है।

बता दें, गया जंक्शन पर पुलिस के निकलने के बाद स्टूडेंट्स फिर से आए और ट्रेन की तीन बोगियों में आग लगा दी थी। इसके पहले भी कुछ बोगियों को आग के हवाले किया गया था। इसके बाद हालात को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़े थे।

भोजपुर और नवादा में 4-4 को जेल...

भोजपुर पुलिस ने अब 700 अज्ञात छात्रों पर FIR दर्ज की है। इसमें RPF थाने में 200 छात्रों पर और GRP थाने में 4 नामजद सहित 500 पर FIR दर्ज की गई है। यहां चार नामजद आरोपियों अरुण कुमार पंडित, विष्णु शंकर पंडित, वरुण पंडित और रवि शंकर कुमार पंडित को जेल भेज दिया गया है।

वहीं, नवादा के रेलवे प्लेटफॉर्म पर हंगामा करने के मामले में पुलिस ने 500 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया है। यहां 32 लोगों को हंगामा करने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया था। जिसमें से 4 को जेल भेज दिया और 28 लोगों को PR बांड भरा कर छोड़ दिया।

गया में बुधवार को छात्रों ने आग कर दी थी।
 
रेल मंत्री बोले- कुछ लोग छात्रों के प्रदर्शन का गलत फायदा उठा रहे...

छात्रों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दोपहर साढ़े तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि हमारे पास परीक्षा को लेकर कोई शिकायत नहीं आई। हमने जांच कमेटी बनाई है और वो इसकी जांच करेगी। कमेटी 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट सौंप देगी।

उन्होंने छात्रों से अपील की कि रेलवे आपकी ही संपत्ति है और इसकी सुरक्षा करिए। रेल मंत्री ने कहा कि कुछ लोग छात्रों के प्रदर्शन का गलत फायदा उठा रहे हैं। छात्रों को भ्रमित न किया जाए, ये मामला देश का है। छात्रों से अपील है कि आप अपना विषय हमारे सामने रखिए और संवेदनशीलता के साथ इसे देखेंगे।

 

बिहार में ट्रैक पर उपद्रव मामले में 8 को जेल:भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात छात्रों पर FIR; आगजनी करने वालों की तलाश तेज बिहार में ट्रैक पर उपद्रव मामले में 8 को जेल:भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात छात्रों पर FIR; आगजनी करने वालों की तलाश तेज Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

देखिये कौन है Khan Sir और क्या है इनका असली नाम और पता...

जनवरी 27, 2022

देखिये कौन है Khan Sir और क्या है इनका असली नाम और पता..


Name : Faishal Khan

Date Of Birth : 1993

Address : Gorakhpur

RRB-NTPC के CBT-1 के परिणाम और ग्रुप डी परीक्षा दो टायर में होने के कारण छात्र उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। बुधवार शाम छात्रों को भड़काने के आरोप में पटना वाले खान सर पर प्राथमिकी दर्ज हो गई। रिजल्ट के विश्लेषण का उनका एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में वह अभ्यर्थियों को अपने हक के लिए लड़ने और आंदोलन के तौर-तरीके समझा रहे हैं। वीडियो को उकसाने वाला मानकर उन पर मामला दर्ज हुआ है। साथ ही पुलिस ने बताया कि पकड़े गए अभ्यर्थियों ने भी उनका नाम लिया था। आइए जानते हैं उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का लड़का कैसे पटना वाले खान सर बन गए..

पटना वाले खान सर YouTube की दुनिया के फेमस टीचर्स में से एक हैं। Khan GS Research Centre के नाम से उनका चैनल 25 अप्रैल 2019 को शुरू हुआ था। आज इस चैनल के 1.45 करोड़ सब्सक्राइबर्स हैं। महज 3 साल में इस चैनल के वीडियोज 1,34,54,09,197 बार देखे जा चुके हैं। गूगल प्ले और एपल स्टोर पर उनका ऑफिशियल ऐप्लिकेशन KHAN SIR OFFICIAL एंड्रॉएड यूजर्स के लिए है। Khan GS Research Centre के नाम से ही पटना में उनका कोचिंग संस्थान भी है। 

लॉकडाउन में उन्होंने YouTube पर प्रसिद्धी पाई। करेंट अफेयर्स और जनरल स्टडीज के टॉपिक्स को मजे-मजे में ठेठ बिहारी अंदाज में उनका पढ़ाना छात्रों को बहुत भाता है। वह टॉपिक को इतने अच्छे तरीके से समझाते हैं कि हर कोई उनका दीवाना है।
उनके नाम को लेकर पिछले साल काफी विवाद हुआ था। यह अभी तक पहेली बनी हुई है। कुछ लोग पिछले साल यह दावा कर रहे थे कि उनका असली नाम अमित सिंह है। वहीं, उनके करीबी उनका नाम फैसल खान बताते हैं, लेकिन जब विवाद बढ़ा तो खान सर ने बताया था कि एक कोचिंग संस्थान ने उन्हें पढ़ाने के लिए बुलाया। कोचिंग वाले ने कहा कि छात्रों को अपना न नाम बताना है और न ही नंबर देना है। इसके बाद कुछ छात्रों ने उन्हें खान सर बुलाना शुरू कर दिया।

वहीं, कुछ लोग अमित सिंह कहकर बुलाने लगे। हालांकि उन्होंने अपना पूरा नाम कभी नहीं बताया। यह कह दिया कि जब टाइम आएगा तो सबको पता चल ही जाएगा। वे पटना वाले खान सर के नाम से ही मशहूर हैं।
खान सर का जन्म उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 1993 में हुआ था। वहीं, उन्होंने देवरिया जिले के भाटपाररानी कस्बे के परमार मिशन स्कूल से स्कूली पढ़ाई की। उनके पिता भारतीय सेना में अधिकारी रहे हैं। हालांकि अब वे रिटायर्ड हो चुके हैं। वहीं, उनके बड़े भाई भी सेना में कमांडो हैं। एक वीडियो में खान सर ने बताया था कि वह NDA में जाना चाहते थे। एग्जाम उन्होंने क्लीयर भी कर लिया, लेकिन मेडिकल परीक्षा पास नहीं कर पाए थे।

उनका हाथ थोड़ा टेढ़ा होने के कारण उनका चयन नहीं हो पाया था। इसके बाद खान सर ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से BSc. और MSc. की डिग्री हासिल की। पटना में पहले एक निजी कोचिंग में पढ़ाया। बाद में खुद की अपनी कोचिंग खोल दी। लॉकडाउन हुआ तो YouTube चैनल चल गया और वह फेमस हो गए।


देखिये कौन है Khan Sir और क्या है इनका असली नाम और पता... देखिये कौन है Khan Sir और क्या है इनका असली नाम और पता... Reviewed by Admin on जनवरी 27, 2022 Rating: 5

युवक की हत्या पर निहंगों का कबूलनामा, आरोपियों ने कहा- पापी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी

अक्तूबर 15, 2021

युवक की हत्या पर निहंगों का कबूलनामा, आरोपियों ने कहा- पापी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी

ये खबर बेहद परेशान करने वाली है, लेकिन है ही ऐसी, तो उसे वैसे ही बयां भी करना होगा। सोनीपत के सिंघु बॉर्डर पर निहंगों ने एक युवक को पकड़कर पहले हाथ-पैर काटे, फिर उसे मार डाला। इसके बाद किसान जहां सालभर से धरने पर बैठे हैं, वहां लोहे के एक बैरिकेड पर लाश टांग दी। वहीं बगल में उसका कटा हुआ हाथ भी टांग दिया।

युवक की हत्या करने वाले निहंग कबूल करते हुए कह रहे हैं, 'जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल, सिंघु बॉर्डर पर इस पापी ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की। फौज ने इसका हाथ काट दिया और टांग भी काट दी है।'

एक निहंग बता रहा है कि जिस युवक को मारा गया है वह रात के समय निहंगों के तंबू में आया था। जहां श्री गुरु ग्रंथ साहिब का प्रकाश किया गया था। युवक गुरु ग्रंथ साहिब को उठाकर भागने लगा तो सेवादारों ने उसे पकड़ लिया। युवक निहंग के बाने में था, लेकिन जब उसके कपड़े उतरवाए गए तो उसके सिर पर केश नहीं थे और उसने कछहरा पहना हुआ था। निहंगों ने उससे पूछताछ की। जब वह कुछ भी बताने को तैयार नहीं हुआ तो पहले उसकी बाजू और फिर टांग काट दी गई। इसके बाद उसकी मौत हो गई।

मौत से पहले का युवक का वीडियो भी सामने आया


वीडियो में युवक मरने से पहले खून से लथ-पथ तड़प रहा है और लोग उससे पूछ रहे हैं कि तू कौन है और कहां से आया था। उसे कबूल करने के लिए कहा जा रहा है कि उसने बेअदबी की है, लेकिन वह कहता है कि सच्चे पातशाह गुरु तेग बहादुर निहंगों को मेरा वध करने की आज्ञा बख्शें और मुझे अपने चरणों में स्थान दो। मैं कबूल करता हूं। निहंगों ने मेरा हाथ काटा है...इसके बाद वहां मौजूद लोग पूछते हैं, अपना नाम भी बता, कहां से आया है, किसने भेजा है, क्या करतूत की है।

सिर कलम करने को कहता रहा युवक, निहंग बोले- तू तड़प तड़प कर मरेगा

युवक कहता रहा कि उसका सिर कलम कर दिया जाए ताकि दर्द से निजात मिले। इस पर वहां मौजूद निहंग उससे कहता है कि तू तड़प-तड़प कर मरेगा। वीडियो में कुछ लोग निहंगों का धन्यवाद करते हुए भी दिखाई दे रहे हैं। वे कह रहे हैं कि पंजाब में बेअदबी की घटनाओं के आरोपी पकड़े नहीं जाते और यहां निहंगों ने मौके पर ही कार्रवाई कर दी।

युवक की हत्या पर निहंगों का कबूलनामा, आरोपियों ने कहा- पापी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी युवक की हत्या पर निहंगों का कबूलनामा, आरोपियों ने कहा- पापी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी Reviewed by Admin on अक्तूबर 15, 2021 Rating: 5

बीकानेर में भूकंप के तेज झटके, रिक्टर स्केल पर 5.3 मापी गई तीव्रता; मेघालय और लद्दाख में भी कांपी धरती

जुलाई 21, 2021

राजस्थान के बीकानेर में बुधवार सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.3 मापी गई है। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, भूकंप सुबह 5 बजकर 24 मिनट पर आया। इसका केंद्र बीकानेर से 343 किमी पश्चिम-उत्तर पश्चिम में 10 किमी की गहराई पर था। भूकंप से अब तक किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

मेघालय में भी भूकंप के झटके...

राजस्थान से पहले मेघालय में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। यह भूकंप रात में 2 बजकर 10 मिनट पर आया। भूकंप का केंद्र पश्चिम गारो हिल्स बताया गया है। हालांकि, यहां भी किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

लेह-लद्दाख में भी 3.6 तीव्रता का भूकंप...

इधर, लेह लद्दाख में भी सुबह 4 बजकर 57 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.6 मापी गई है। यानी, राजस्थान से पहले मेघालय और लेह-लद्दाख में भी धरती कांपी है। हालांकि, यहां भी किसी नुकसान की खबर नहीं है।

6 की तीव्रता वाला भूकंप खतरनाक होता है....

भूगर्भ वैज्ञानिकों के मुताबिक, भूकंप की असली वजह टेक्टोनिकल प्लेटों में तेज हलचल होती है। इसके अलावा उल्का प्रभाव और ज्वालामुखी विस्फोट, माइन टेस्टिंग और न्यूक्लियर टेस्टिंग की वजह से भी भूकंप आते हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता मापी जाती है। इस स्केल पर 2.0 या 3.0 की तीव्रता का भूकंप हल्का होता है, जबकि 6 की तीव्रता का मतलब शक्तिशाली भूकंप होता है।

ऐसे लगाते हैं भूकंप की तीव्रता का अंदाजा...

भूकंप की तीव्रता का अंदाजा उसके केंद्र (एपिसेंटर) से निकलने वाली ऊर्जा की तरंगों से लगाया जाता है। सैकड़ों किलोमीटर तक फैली इस लहर से कंपन होता है। धरती में दरारें तक पड़ जाती हैं। भूकंप का केंद्र कम गहराई पर हो तो इससे बाहर निकलने वाली ऊर्जा सतह के काफी करीब होती है, जिससे बड़ी तबाही होती है।

बीकानेर में भूकंप के तेज झटके, रिक्टर स्केल पर 5.3 मापी गई तीव्रता; मेघालय और लद्दाख में भी कांपी धरती बीकानेर में भूकंप के तेज झटके, रिक्टर स्केल पर 5.3 मापी गई तीव्रता; मेघालय और लद्दाख में भी कांपी धरती Reviewed by Admin on जुलाई 21, 2021 Rating: 5

दहेज के लिए की मारपीट जबरन गर्भपात भी कराया : AMC NEWS

जुलाई 21, 2021

दहेज के लिए की मारपीट जबरन गर्भपात भी कराया...

भलगुड़ी गांव निवासी शिव चंद्र पटेल की पुत्री भारती कुमारी ने टेटिया थाने में दहेज प्रताड़ना को लेकर आवेदन दिया है। आवेदन के माध्यम से भारती कुमारी ने बताया कि मार्च 21 में उसकी शादी धोनी तारापुर निवासी कपिल देव मंडल के पुत्र अंशु रंजन उर्फ चंदन के साथ हुई। शादी के बाद से ही पति समेत भैंसूर अजय मंडल एवं संतोष मंडल एवं गोतनी नीतू देवी एवं वर्षा देवी ने दहेज को लेकर मेरे साथ हर समय गाली गलौज व मारपीट करने लगे।

फोन लगाकर पिता से 5 लाख रुपए व एक बाइक की मांग करते है। पीड़िता ने बताया कि वे डेढ़ माह की गर्भवती है, तब सबों ने गर्भपात करवाने का दबाव बनाया। नहीं मानने पर 14 जुलाई को दिन के 2:00 बजे एक महिला व दो पुरुष को बुलाया गया और जबरदस्ती घर में हाथ पैर बांध गर्भपात करा दिया गया। इस कार्य में मेरे पति के दुकान का स्टाफ सन्नी कुमार भी साथ था। गर्भपात कराने के बाद 16 जुलाई की शाम मुझे जबरदस्ती मायके पहुंचा दिया। 

धमकी दिया कि पैसे व मोटरसाइकिल के साथ ही दोबारा आना। जब अब कोई चारा न दिख तो मैं थाने में गुहार लगाने आई हूं। मुझे इंसाफ दिलाया जाए। थानाधयक्ष मनोज कुमार साह ने कहा कि आ‌वेदन मिला है, जांच का जा रही है।
 

दहेज के लिए की मारपीट जबरन गर्भपात भी कराया : AMC NEWS दहेज के लिए की मारपीट जबरन गर्भपात भी कराया : AMC NEWS Reviewed by Admin on जुलाई 21, 2021 Rating: 5

चीन में लिंगानुपात बनी समस्या जनगणना में सामने आई जानकारी, तीन करोड़ से अधिक पुरुष कुंआरे

मई 19, 2021

चीन में लिंगानुपात बनी समस्या जनगणना में सामने आई जानकारी, तीन करोड़ से अधिक पुरुष कुंआरे...

दुनिया में सबसे ज्यादा करीब 140 करोड़ की आबादी वाले देश चीन में तीन करोड़ पुरुष कुंआरे हैं। यह संख्या कई देशों की कुल आबादी से भी ज्यादा है। हाल ही में हुई जनगणना में यह जानकारी सामने आई है। चीन के सरकारी मीडिया के मुताबिक, चीन में लंबे समय से लड़कों को प्राथमिकता दी जाती रही है।

हालांकि, इस साल लड़कियों के जन्म में मामूली बढ़ोतरी हुई है। इसके बावजूद लिंगानुपात में अंतर का समाधान निकलने की उम्मीद नहीं है। पिछले साल चीन में 1.2 करोड़ शिशुओं का जन्म हुआ। इनमें प्रति 100 लड़कियों पर लड़कों की संख्या 111.3 है। 2010 में यह अनुपात 100 लड़कियों पर 118.1 लड़कों का था।

विवाह की उम्र में पहुंचने पर दुल्हनों की कमी

प्रोफेसर बीजोर्न एल्परमैन बच्चों के विवाह योग्य उम्र में पहुंचने पर दुल्हनों की कमी को लेकर आगाह करते हैं। यह सच है कि पिछले साल 1.2 करोड़ शिशुओं ने जन्म लिया है। लेकिन, ये लोग जब बड़े होंगे तो 6 लाख लड़कों को विवाह के लिए दुल्हन नहीं मिलेगी।
 

चीन में लिंगानुपात बनी समस्या जनगणना में सामने आई जानकारी, तीन करोड़ से अधिक पुरुष कुंआरे चीन में लिंगानुपात बनी समस्या जनगणना में सामने आई जानकारी, तीन करोड़ से अधिक पुरुष कुंआरे Reviewed by Admin on मई 19, 2021 Rating: 5
enjoynz के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.