Welcome to AMC NEWS : पाएं ताजा ख़बरें सबसे पहले और यदि आप चाहते हैं पल पल की अपडेट पाना तो Download करें AMC NEWS ANDROID APP और खबरों के साथ बने रहें| This is the Only Official Website of AMC NEWS     “Always Type www.amcnews.in . For advertising in this website contact us.”

मुंगेर में भीड़ ने नहीं, पुलिस ने फायरिंग की शुरुआत की थी; CISF की इंटरनल रिपोर्ट से खुलासा...

मुंगेर में भीड़ ने नहीं, पुलिस ने फायरिंग की शुरुआत की थी; CISF की इंटरनल रिपोर्ट से खुलासा...

मुंगेर में दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन जुलूस के दौरान 26 अक्टूबर की रात फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत के मामले में बिहार पुलिस की चूक का खुलासा हुआ है। बिहार पुलिस का दावा था कि उपद्रव कर रहे लोगों ने फायरिंग की थी और उपद्रवियों की गोली से एक की मौत हुई थी। हालांकि, भास्कर को मिली CISF की इंटरनल रिपोर्ट के मुताबिक, फायरिंग की शुरुआत मुंगेर पुलिस ने की थी।

CISF की इंटरनल रिपोर्ट में इसे हवाई फायर बताया गया है। रिपोर्ट को CISF के पटना स्थित ईस्ट रेंज के डीआईजी ने तैयार किया है। उन्होंने इंटरनल रिपोर्ट 27 अक्टूबर को तैयार की और ईस्ट जोन के आईजी और दिल्ली स्थित मुख्यालय को भेजी। विवाद किस वजह से हुआ, घायलों और जान गंवाने वाले लोगों को किसकी गोली लगी और घटना के लिए जिम्मेदार कौन है, इसकी जांच चुनाव आयोग ने मगध के डिविजनल कमिश्नर असंगबा चुबा को सौंपी है।

CISF की इंटरनल रिपोर्ट कहती है, ‘‘26 अक्टूबर की रात 11 बजकर 20 मिनट पर CISF के 20 जवानों की टुकड़ी, मुंगेर कोतवाली थाना के कहने पर मूर्ति विसर्जन की सुरक्षा ड्यूटी के लिए जिला स्कूल स्थित कैंप से भेजी गई। राज्य पुलिस ने इन 20 जवानों को 10-10 के दो ग्रुप में बांट दिया। इनमें से एक ग्रुप को SSB और बिहार पुलिस के जवानों के साथ दीनदयाल उपाध्याय चौक पर तैनात किया गया।’’

‘‘रात के करीब 11 बजकर 45 मिनट पर विसर्जन यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं और लोकल पुलिस के बीच विवाद शुरू हुआ। इसकी वजह से कुछ श्रद्धालुओं ने पुलिस और सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी थी। हालात को काबू करने के लिए लोकल पुलिस ने सबसे पहले हवाई फायरिंग की। इसकी वजह से श्रद्धालु ज्यादा उग्र हो गए और पत्थरबाजी तेज कर दी।’’

‘‘हालात काबू से बाहर होते देख CISF के हेड कांस्टेबल एम गंगैया ने अपनी इंसास राइफल से 5.56 एमएम की 13 गोलियां हवा में फायर कीं। इसी की वजह से उग्र भीड़ तितर-बितर हुई। CISF जवानों के साथ एसएसबी और पुलिस के जवान अपने-अपने कैंप में सुरक्षित लौट सके।’’ Image Source - Dainik Bhaskar

मुंगेर की ताजा ख़बरें

गोलीकांड की जांच कराई जा रही...

मुंगेर में हुई हिंसा के बारे में एडीजी पुलिस मुख्यालय, जितेंद्र कुमार का कहना है कि गोलीकांड की जांच सीनियर पुलिस ऑफिसर्स से कराई जा रही है। एडीजी के मुताबिक मूर्ति विसर्जन के दौरान हालात बिगड़े थे। इसके बाद पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी, लेकिन हालात क्यों बिगड़े, इसका पता लगाया जा रहा है। जल्द ही जांच पूरी हो जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

क्या है मामला?

दरअसल, शहर के दीनदयाल उपाध्याय चौक पर सोमवार देर रात प्रतिमा विसर्जन के दौरान पुलिस बल पर भीड़ की ओर से फायरिंग और पथराव की खबर आई थी। इसमें एक थानेदार का सिर फट गया था और 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। वहीं, अनुराग पोद्दार नाम के व्यक्ति की मौत हो गई थी। सात लोग घायल हुए थे। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ये वीडियो गोली चलने के पहले का है या इसके बाद का इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

मुंगेर में भीड़ ने नहीं, पुलिस ने फायरिंग की शुरुआत की थी; CISF की इंटरनल रिपोर्ट से खुलासा... मुंगेर में भीड़ ने नहीं, पुलिस ने फायरिंग की शुरुआत की थी; CISF की इंटरनल रिपोर्ट से खुलासा... Reviewed by Admin on अक्तूबर 29, 2020 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

enjoynz के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.